Monday, December 16, 2019 1:13 PM
Breaking News

राज्य आंदोलनकारी एवं कांग्रेस नेता जेपी पांडे की सड़क हादसे में मौत

हरिद्वार। सड़क हादसे में राज्य आंदोलनकारी जेपी पांडे की मौत हो गई। हादसा तब हुआ जब वह अपने मित्र और राज्यसभा सांसद प्रतिनिधि अरविंद शर्मा के भाई की शादी में शिरकत करने जा रहे थे। राज्य आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले जेपी पांडे कांग्रेस के प्रदेश सचिव भी थे।

राज्यसभा सांसद राज बब्बर के प्रतिनिधि अरविंद शर्मा के छोटे भाई की शादी रविवार रात हाईवे पर रानीपुर झाल स्थित एक बैंक्वेट हॉल में थी। जेपी पांडे शिवलोक कॉलोनी स्थित अपने घर से स्कूटी में सवार होकर शादी समारोह में जा रहे थे। रास्ते में उन्होंने एक महिला और उसकी बच्ची को लिफ्ट दी। जटवाड़ा पुल के पास अज्ञात वाहन से उनकी टक्कर हो गई।

तीनोंं को अस्पताल ले गई, जहां जेपी पांडे की मौत हो गई। राहगीरों की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और उनकी शिनाख्त कराते हुए परिजनों को सूचना दी। हादसे की खबर लगने पर शादी समारोह से भी बड़ी संख्या में लोग सीधे जिला अस्पताल पहुंचेे।

रिटायर्ड भेलकर्मी जेपी पांडे राज्य आंदोलन के अलावा हरिद्वार में झुग्गी बस्तीवासियों व निम्न वर्ग के लोगों हक की आवाज उठाने वाले जमीन से जुड़े नेता रहे हैं। उन्होंने राज्य आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाई। साथ ही वह कांग्रेस के प्रदेश सचिव भी थे। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, पूर्व राज्यमंत्री संजय पालीवाल समेत कांग्रेस व भाजपा के नेताओं ने उनके निधन पर शोक जताया।

चिकित्सक की कार से हुआ एक्सीडेंट 

पुलिस के मुताबिक, जेपी पांडे की स्कूटी की टक्कर चिकित्सक की कार से हुई। पौड़ी में संविदा पर कार्यरत सरकारी चिकित्सक डॉ सनी कोहर मूल रूप से हिसार हरियाणा के रहने वाले हैं। ज्वालापुर कोतवाली प्रभारी योगेश देव ने बताया कि जेपी पांडे अपनी परिचित महिला रश्मि चमोली और उनकी बिटिया को साथ लेकर स्कूटी से शादी समारोह में शामिल होने जा रहे थे।

उन्होंने रश्मि चमोली को पुल जटवाड़ा से बैठाया था। थोड़ी दूर चलते ही सामने से आ रही एक कार ने उन्हें टक्कर मार दी। इससे पांडे, रश्मि चमोली व उनकी बिटिया घायल हो गए। कार चालक डॉक्टर सनी की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस तीनों को भूमानंद अस्पताल लेकर गई। जहां डॉक्टरों ने जेपी पांडे को मृत घोषित कर दिया।

Check Also

जेल में मोबाइल मिलने के मामले आ रहे सामने

हरिद्वार। जेल में मोबाइल चलाने वाले कैदियों पर प्रभावी कार्रवाई नहीं हो रही है। उन्हें सिर्फ ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *